How to change authorised signatory in Tally Sales Invoices?

How to change authorised signatory in Tally Sales Invoices?

दोस्तों, आज हम बात करेंगे की टैली में सेल्स इनवॉइस में किस तरह आप authorized signatory के स्थान पर किसी सम्बंधित व्यक्ति, डायरेक्टर, पार्टनर, या proprietor का नाम डाल सकते है| 

दोस्तों, सेल्स इनवॉइस बनाते समय हमेशा साइनिंग अथॉरिटी पर Authorized Signatory ही लिखा आता है लेकिन एक छोटे से कोड से हम इसे बदल सकते है| 

सामान्यतः टैली सेल्स इनवॉइस में हमें Authorised Signatory कुछ इस तरह से दीखता है| 


ऊपर दिखाए गए इनवॉइस में आप देख सकते है की साइन करने की जगह Authorized Signatory लिखा हुआ है अब आपको नीचे दिया गया कोड कॉपी करना है और notepad में पेस्ट करके अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में किसी भी स्थान पर सेव कर लेना है 

[#Line : EXPSMP Authourity]
Local : Field : Simple Field : Set as : "Sumit Gogawat - Director"

[#Part: EXPINV Signature]
Add: Line :Prop
[Line:Prop]
Left Fields : Simple field
Local : Field : Simple Field : Set as : ""
 
ऊपर दिए गए कोड में आपको मेरे नाम की जगह वो नाम टाइप करना है जो आपके सेल्स इनवॉइस को साइन करता है या जो  भी authorized signatory है | 

अब notepad की फाइल पर राइट क्लिक करके प्रॉपर्टीज पर जाइये और वहां पर सिक्योरिटी तब पर क्लिक कीजिये और वहां दिए गए path को कॉपी कर लीजिये 


अब आपको टैली में जाना है और वहां पर Ctrl + Alt + T प्रेस करना है, उसके बाद आपको F4 प्रेस करना है और वहां पर Load selected TDL files on startup को yes करना है और TDL फाइल का पाथ वहां पर पेस्ट कर देना है 

उसके बाद आप इनवॉइस बना के चेक कर सकते है इनवॉइस पर उसी व्यक्ति का नाम आएगा जो आपने नोटपैड फाइल में सेव किया होगा| कुछ इस तरह से 


अगर आपको किसी भी तरह की परेशानी हो तो आप हमें 8920287934 पर व्हाट्सप्प करके हमारी तरफ से फ्री सहायता प्राप्त कर सकते है 



Share:

How to unlock your computer with remote fingerprint unlock?

How to unlock your computer with remote fingerprint unlock?

दोस्तों, आज हम बात करेंगे की कैसे आप अपने नार्मल कंप्यूटर या लैपटॉप को एक फिंगरप्रिंट से खुलने वाला कंप्यूटर या लैपटॉप बना सकते है| आजकल अधिकतर लैपटॉप्स फिंगरप्रिंट फीचर के साथ आते है और उन लैपटॉप्स में फिंगरप्रिंट का ऑप्शन इनबिल्ट होता है | 
Share:

How to register for Compliance Section 206AB & 206CCA?

How to register for Compliance Section 206AB & 206CCA?

दोस्तों आज हम बात करेंगे की हम किस तरह नए सेक्शन 206AB और 206CCA के लिए रजिस्टर कर सकते है? जैसा की आप सभी जानते है कि पिछले बजट में सरकार ने 2 नए सेक्शन लगाए थे जोकि 206AB और 206CCA है, दोनों ही सेक्शन 1 जुलाई 2021 से शुरू हो गए है| 
Share:

Tally Prime mein inventory kaise use karein? - Part 1

टैली प्राइम में इन्वेंटरी कैसे बनाएं?

दोस्तों, टैली प्राइम एक ऐसा एकाउंटिंग सॉफ्टवेयर है जो आपको एकाउंट्स के साथ साथ इन्वेंटरी (स्टॉक) भी मैनेज करने की सुविधा देता है| टैली प्राइम में एकाउंटिंग के दो मोड है 
Share:

Tally Prime mein Voucher Type kaise banayein?

टैली प्राइम में वाउचर टाइप कैसे बनाएं?

दोस्तों अभी तक हमने लेजर और ग्रुपिंग बनाना सीखा, आज हम वाउचर टाइप बनाना सीखेंगे| वाउचर ग्रुप के जैसे ही टैली में पहले से ही उपलब्ध है| टैली में आपको 22 तरह के वाउचर टाइप्स मिलते है जोकि इस प्रकार है:
Share:

Tally Prime mein grouping kaise banayein?

टैली प्राइम में ग्रुप कैसे बनाएं?

दोस्तों पिछले पोस्ट में हमने लेजर बनाने की जानकारी हासिल की, इस पोस्ट में हम बात करेंगे कि किसी भी लेजर की ग्रुपिंग कैसे करते है| लेकिन उससे पहले हमें जानना है की ग्रुपिंग क्या होती है और क्यों इसकी ज़रूरत होती है|  
Share:

Tally Prime mein Bank Ledger kaise banayein?

टैली प्राइम में बैंक लेजर कैसे बनाएं ?

दोस्तों पिछले पोस्ट में हमने आपको बताया की कैसे आप टैली प्राइम में लेजर बना सकते हो| आज के पोस्ट में हम बात करेंगे की कैसे हम बैंक का लेजर बनाएं जिससे हम आसानी से बैंक रेकन्सीलिएशन और बैंकिंग ज़रूरतों को पूरा कर सकें| 


बैंक लेजर की कॉन्फ़िगरेशन क्यों है ज़रूरी?

दोस्तों, कोई भी व्यवसाय बिना बैंक अकाउंट के अधूरा है, बैंक हमें पैसे जमा करने और निकालने की सुविधा के साथ साथ और भी कई सुविधाएं देता है जैसे की कॅश क्रेडिट अकाउंट, लोन अकाउंट, PCFC फैसिलिटी, फिक्स्ड डिपाजिट और अन्य कई तरह की सुविधाएं बैंक हमें देता है| 

आपने बैंक अकाउंट खुलवाया और टैली में आपने बैंक अकाउंट की सेटिंग ठीक से नहीं की तो आप टैली प्राइम में मिलने वाली सुविधाओं का लाभ नहीं उठा पाएंगे | 

 टैली प्राइम में बैंकिंग सुविधाएं

  1. चेक बुक मैनेज करने की सुविधा 
  2. चेक प्रिंटिंग की सुविधा 
  3. चेक डिपाजिट स्लिप प्रिंट करने की सुविधा 
  4. कॅश जमा करने की स्लिप की सुविधा 
  5. एटीएम ट्रांसक्शन की सुविधा 
  6. क्रेडिट / डेबिट कार्ड से ट्रांसक्शन की सुविधा 
  7. इ-फंड्स ट्रांसफर की सुविधा 
  8. डायरेक्ट बैंक के पोर्टल से जुड़ने की सुविधा  (सिर्फ चुनिंदा बैंकों के लिए)
  9. डिमांड ड्राफ्ट जेनेरेट करने की सुविधा 
  10. इ-पेमेंट की सुविधा 
दोस्तों जब इतनी साड़ी सुविधाएं आपको सिर्फ लेजर कॉन्फ़िगर करने से मिल सकती है तो ये ज़रूरी हो जाता है की आपका बैंक का लेजर ठीक तरह से बने ताकि आप टैली प्राइम में उपलब्ध सुविधाओं का लाभ ले सकें| 

टैली प्राइम में कैसे बनाएं बैंक लेजर?

टैली प्राइम में बैंक लेजर बनाना उतना ही आसान है जितना की कोई अन्य लेजर| 

आप नीचे दी गयी तस्वीर के हिसाब से बैंक लेजर बना सकते है या बैंक लेजर अपडेट कर सकते है :



जैसा कि ऊपर फोटो में दिखाया गया है की बैंक अकाउंट डिटेल्स भरनी है 

A/c Holder's Name: यहाँ पर आपकी कंपनी/फर्म या अगर व्यक्तिगत खाता है तो उसका नाम आएगा 
A/c No.: यहाँ पर आपको बैंक अकाउंट नंबर डालना है - ध्यान रहे अकाउंट नंबर में किसी प्रकार की गलती न हो 
IFS Code: IFSC कोड आपको चेक बुक पर मिल जायेगा, इसे भी ध्यान पूर्वक भरें 
Swift Code: Swift  कोड आपको बैंक से लेना होगा, ये विदेशो से पेमेंट आने के लिए इस्तेमाल होता है 
Bank Name: यहाँ पर बैंक का नाम आएगा 
Bank Branch: यहाँ पर बैंक की ब्रांच का नाम आएगा जो आपको चेक बुक या बैंक स्टेटमेंट पर मिल जाएगी 
BSR Code: BSR कोड आपको बैंक से मिल जायेगा 
Client Code: Client कोड भी आपको बैंक ही देगा (ये आपको E payment करने के लिए इस्तेमाल होगा)

उसके बाद आती है बैंक कॉन्फ़िगरेशन 



बैंक कॉन्फ़िगरेशन में सबसे पहला ऑप्शन है चेक बुक मैनेज करने का, इस ऑप्शन को यस करते ही आपके सामने  चेक बुक की डिटेल्स भरने के लिए कहा जायेगा 




यहाँ पर आपको अपनी चेक बुक की डिटेल्स भरनी है उसके बाद टैली प्राइम अपने आप आपको चेक की सीरीज कैलकुलेट करके देगा की कौन सा चेक किस पार्टी को दिया है और कौन सा चेक कैंसिल हुआ है| टैली आपको इसकी पूरी रिपोर्ट देता है| इससे आपको कोई भी चेक गुम होने का चांस भी नहीं रहेगा | 

उसके बाद बारी आती है चेक प्रिंटिंग की, इस ऑप्शन को यस करते ही आपके सामने बैंक के कुछ पहले से बने हुए फॉर्मेट दिखाई देंगे, उनमे से जो फॉर्मेट आप इस्तेमाल कर रहे हो वो आपको सेलेक्ट करना है| 

उसके बाद आपको ऑटो रेकन्सीलिएशन का ऑप्शन दिखेगा जिसे आपको यस कर देना है, ये आपको बैंक की साइट से डाउनलोड की हुई एक्सेल की स्टेटमेंट को  ऑटोमेटिकली रेकन्सीलिएशन करने की सुविधा देता है  (इसके बारे में हम आपको आगे चलकर डिटेल में बताएंगे). 

इ-पेमेंट्स इन टैली 

दोस्तों अगर आप नेट बैंकिंग इस्तेमाल करते है और सभी पार्टीज को पेमेंट E - Payment मोड में करते है तो ये फीचर आपके लिए बहुत उपयोगी है| इस फीचर में आप पेमेंट का बल्क डाटा टैली से सीधे बना कर अपने बैंक की साइट पर अपलोड कर सकते है उसके लिए आपको अलग से किसी यूटिलिटी या फाइल की ज़रूरत नहीं पड़ेगी| इस फीचर को एक्टिवटे करने के बाद टैली प्राइम आपको मैसेज देगा कि इस फीचर को उसे करने के लिए आप एक बार अपने बैंकिंग रिलेशनशिप मैनेजर से संपर्क करें, ये मैसेज सिर्फ इसलिए होगा ताकि बल्क अपलोडिंग फाइल बैंक के फॉर्मेट में हो (इस फीचर के बारे में आपको आगे चलकर बताएंगे)


दोस्तों कैसा लगा आपको हमारा ये पोस्ट, कमेंट करके ज़रूर बताएं | आप अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते है| 







Share:

Tally Prime mein Ledger kaise banaye?

टैली प्राइम में लेजर कैसे बनाएं ?

दोस्तों जैसा की आप जानते है की टैली प्राइम नया वर्ज़न है टैली का | अभी भी काफी सारे लोग टैली के पुराने वर्जन पर ही काम कर रहे है क्यूंकि उन्हें नए वर्जन की नयी अधिक जानकारी नहीं है | तो जो भी नए टैली प्राइम के यूजर  हमसे जुड़ रहे है उनके लिए हमारे टुटोरिअल्स काफी फायदेमंद साबित होंगे| 
Share:

How to automatically deduct lower tds in Tally Prime?

टैली प्राइम में कम रेट पर टीडीएस कैसे काटें?


दोस्तों आज हम बात करेंगे की आप टैली प्राइम में कम रेट पर टीडीएस कैसे काट सकते है? 

जैसा की आप सब जानते है की भारत सरकार ने 14  मई 2020 को प्रेस रिलीज़ जारी करके टीडीएस रेट को कम किया था | अगर हम उसी प्रेस रिलीज़ को नार्मल रूप में देखें तो हम देखेंगे की सरकार ने 2% को घटा कर 1.5% कर दिया, 1% को घटा कर 0.75% कर दिया, 5% को घटा कर 3.75% कर दिया और 10% को घटा कर 7.5% कर दिया था जोकि मार्च 2021 तक मान्य है |
Share:

You May Also Like